परम्परागत रोजगार के लिए 18 ट्रेडों हेतु मिलेेगा अनुदान-जिलाधिकारी

सोनभद्र : जिलाधिकारी श्री चन्द्र विजय सिंह ने अवगत कराया है कि जनपदवासी अब अपना परम्परागत व्यवसाय, उद्योग, धंधा करते हुए उसको और विकसित कर सकेंगें, इसके लिए अब केन्द्र सरकार भी उत्तर प्रदेश सरकार की विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की तर्ज पर प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना को विश्वकर्मा दिवस/17 सितंबर को लांच करने जा रही है। इस योजना के आॅनलाइन आवेदन रजिस्ट्रेशन भी 25 अगस्त,2023 से शुरू हो जाएंगें, इस योजना के तहत कुल 18 परम्परागत ट्रेडों को शामिल किया गया है, जो 17 सितंबर, 2023 को प्रधानमंत्री द्वारा योजना को पूरे देश में लांच किया जायेगा। इसमें साक्षात्कार के माध्यम से जिला उद्योग केन्द्र व जिलाधिकारी द्वारा गठित कमेटी चयन पात्रों का चयन करेगी, चयन के बाद सबसे पहले आवेदक को एक बाउचर दिया जाएगा, जिससे वह पन्द्रह हजार रूपए तक की टूल किट खरीद सकेगा, एक आई0डी0 कार्ड व प्रमाण-पत्र भी दिया जाएगा, पहली बार में एक लाख ऋण पांच फीसदी ब्याज पर मिलेगा, इसको 18 माह में अदा करना होगा, इसके बाद दो लाख रूपए का ऋण भी मिलेगा। जिसको निर्धारित समय सीमा पर जमा करना होगा, जिला उद्योग केन्द्र ने परम्परागत ट्रेडों से जुड़े लोगों को जागरूक करना शुरू कर दिया है। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत कारपेंटर, नाव बनाने वाले, अस्त्र बनाने वाले, लोहार, ताला बनाने वाले, हथौड़ा व टूल किट निर्माता, सुनार, कुम्हार, मूर्तिकार, मोची, राजमिस्त्री, डलिया, चटाई, झंाब बनाने वाले, पारम्परिक गुड़िया और खिलौने बनाने वाले, नाई, मालाकार, धोबी, दर्जी, मछली का जाल बनाने वाले व्यक्तियों को लाभान्वित किया जायेगा। जिसमें शिल्पकार, कारीगरों को प्रमाण दिया जायेगा, इस योजना के तहत कौशल विकास प्रशिक्षण, टूल किट लाभ, डिजिटल लेन-देन के लिए इंसेटिव और मार्केटिंग सपोर्ट आदि का प्राविधान किया गया है। इस योजना के लिए इच्छुक लाभार्थी 25 अगस्त, 2023 से आनलाईन आवेदन कर सकते हैं, इस योजना के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी कार्यालय-उपायुक्त उद्योग, जिला उद्योग प्रोत्साहन तथा उद्यमिता विकास केन्द्र सोनभद्र से प्राप्त की जा सकती है।

ये भी पढ़िए